Thursday, 16 January 2014

मैं साँस रोकना चाहता हूँ,

                                                मैं साँस रोकना चाहता हूँ,
                                     इस निर्दयी दुनिया से दूर जाना चाहता हूँ,
                                     क्यूंकी वो हर साँस मे मुझे याद आती हैं,
                                               पर मैं ऐसा कर नही पाया,
                                         क्यूंकी ये ज़िंदगी भी तो उसी की हैं,
                                     में उसे ऐसे ही समाप्त कैसे कर सकता हूँ…

No comments:

Post a Comment